भारी बारिश के कारण स्कूल के छत का प्लास्टर का बड़ा हिस्सा गिरने से छात्र खुले आसमान के नीचे पढ़ने को मजबूर

0
Spread the love

सूरजपुर फिर एक बड़ा हादसा टला सूरजपुर के केवरा गांव के गदेडिहाडीह प्राथमिक शाला का छत का बड़ा हिस्सा उस समय टूटकर गिरा गनीमत यह थी कि जब बच्चों के खाने की छुट्टी हुई थी नहीं तो एक बड़ा हादसा हो सकता था दरअसल छत्तीसगढ़ में 26 जून से स्कूल खुल गए हैं और छत्तीसगढ़ शासन का यह आदेश था कि जल्द से जल्द जर्जर स्कूल को मरम्मत कराकर स्कूल लगाया जाए वही शिक्षा मंत्री डॉक्टर प्रेमसाय सिंह का एक बयान भी आया था जिसमें उन्होंने कहा था कि सभी जिले के जिलाधिकारी एवं शिक्षा अधिकारियों को यह निर्देशित किया गया है कि जल्द से जल्द जर्जर स्कूल भवन का मरम्मत कराकर स्कूल लगाएं नही तो वैकल्पिक व्यवस्था कर स्कूल लगाया जाए लेकिन सूरजपुर जिले में अभी तक ज्यादातर स्कूलों का मरम्मत नहीं हो पाया है जिसके कारण बच्चे बारिश में खुले आसमान के नीचे पढ़ने को मजबूर है वही स्कूल के शिक्षक का कहना है कि बार-बार छत का प्लास्टर गिर रहा है और स्कूल में पानी भरा हुआ है जिसके कारण बच्चों को बाहर पुराना पड़ रहा है लेकिन अगर बारिश हो जाएगी तो काफी दिक्कत होने लगेगा ऐसे में बच्चों का पढ़ाई भी प्रभावित हो रहा है और अगर जल्द स्कूल भवन का मरम्मत नहीं कराया गया तो बच्चों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ेगा कई बार हमने उच्च अधिकारियों को अवगत कराया लेकिन अभी तक मरम्मत नहीं हो पाया है और लगातार बारिश होने के कारण पूरे स्कूल भवन के छत से पानी टपक रहा है जिले कारण स्कूल में पानी भर गया है जिससे बच्चों को खुले आसमान के नीचे पढ़ाने को मजबूर है अगर बारिश हो जाती है तो काफी दिक्कत हो जायेगी वही छात्रों का कहना है कि स्कूल भवन का प्लास्टर हरेशा गिरता है अब हमें डर लगता है स्कूल में बैठने से इस कारण से स्कूलों में दर संख्या से भी कम छात्र स्कूल पढ़ने आ रहे हैं बहराल अब देखने वाली बात होगी कब तक स्कूलों का मरम्मत हो पाता है और कब तक यह छात्र यूं ही खुले आसमान के नीचे पढ़ने को मजबूर रहेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

slot depo 10k
slot qris
slot spadegaming
slot pg soft
habanero slot
cq9 slot
slot garansi kekalahan bebas ip