पत्रकारिता के आड मे बाप-भाई से करवा रहा है अवैध शराब का धंधा रात 12 बजे तक खुलीरहती है अनुप जायसवाल का ढाबा नाबालिग कर रहे शराब का अवैध परिवहन, जिम्मेदारों की लापरवाही से शराब माफिया सक्रिय, होटलों और ढाबों व किराना दुकानों पर पीने वालों के लिए है वीआईपी व्यवस्था, आबकारी और पुलिस विभाग के अधिकारियों की मौन स्वीकृति आये दिन होती रहती है विवाद*…

0
Spread the love

*पत्रकारिता के आड मे बाप-भाई से करवा रहा है अवैध शराब का धंधा रात 12 बजे तक खुलीरहती है अनुप जायसवाल का ढा़बा*
*नाबालिग कर रहे शराब का अवैध परिवहन, जिम्मेदारों की लापरवाही से शराब माफिया सक्रिय, होटलों और ढाबों व किराना दुकानों पर पीने वालों के लिए है वीआईपी व्यवस्था, आबकारी और पुलिस विभाग के अधिकारियों की मौन स्वीकृति आये दिन होती रहती है विवाद*…

*सूरजपुर – न्यूज़29*……..दतिमा चौक में पत्रकारिता की आड़ में अवैध शराब की बिक्री कर रहे हैं और खुद अपने परिवार से बचाने में लगे हैं जानकारी के अनुसार पत्रकारिता का इतना दोस्त दिखाते हैं कि हिंदी चौकी के स्टाफ सहित सभी को मामला संज्ञान है कि यहां खुलेआम शराब बिक्री हो रही है रात 2:00 बजे रात तक बेधड़क कभी-कभार अगर बीच में छापा पड़े तो शराब मिलता भी है तो उसे जब्ती नहीं करते हैं खाना पूर्ति के लिए दिखावे के लिए छापा मारते हैं और पुलिस अपने काम कर निकल जाती है। करंजी चौकी के अंतर्गत और भी ऐसे कई जगह है जहां खुलेआम शराब बिक्री हो रही जुआ सट्टा गांजा कई तस्कर हैं पुलिस अधीक्षक की छवि को धूमिल किया जा रहा है पुलिस अधीक्षक ने बीच में अवैध शराब को बिक्री को लेकर अभियान चलाए थे लेकिन चौकी के द्वारा कोई भी ठोस कार्रवाई नहीं करते हो कोई भी बड़ी कार्रवाई नहीं की गई है शराब के मामले को लेकर अवैध धंधे फल फूल रहे है । पुलिस और आबकारी अधिकारियों की मौन स्वीकृति के चलते शराब की अवैध बिक्री बेरोकटोक जारी है। खास बात तो ये है कि मुख्य क्षेत्रों सहित होटलों और ढाबों पर शराब पीने वालों के लिए वीआईपी व्यवस्था है। जिम्मेदार अधिकारियों की लापरवाही का आलम ये है कि नाबालिग बच्चे शहर में शराब की पेटियों का खुलेआम परिवहन कर रहे है। नियमों को ताक पर रखकर ठेकेदार और होटल संचालक चांदी काट रहे है। वहीं युवा शराब की लत में उलझते जा रहे है।
दतिमा चौक सहित अन्य कई जगह पर करीब हर ढाबे पर शराब बेची जा रही है। प्रतिदिन लाखों का व्यापार करने वाले इस बात को भी तवज्जों नहीं देते। उनकी मनमानी से समाज के युवा शराब जैसी बुरी लत के शिकार होकर अपना जीवन बर्बाद कर रहे है।

*दतिमा चौक में पत्रकारिता के धौश मे अनुप जायसवाल अपने बडे भाई व बाप से विकवा रहा व बैठा कर पिला रहा है, शराब पीने वालों के लिए है वीआईपी व्यवस्था*

दतिमा चौक स्थित कई जगह पर पीने वालों के लिए विशेष व्यवस्था है। शाम होते ही होटलों और ढाबों में युवाओं की टोलियां पहुंच जाती है। यहां पर युवाओं को शराब सहित मनपसंद ब्रांड की शराब आसानी से मिल रही है। होटल संचालक और ढाबा मालिक युवाओं को शराब परोस कर मोटी कमाई कर रहे हैं। ऐ पूरा धंधा अवैध रूप से कई वर्षों से चल रहा है, लेकिन जिम्मेदार अधिकारी मौन धारण किए है। पुलिस और आबकारी अधिकारियों की मौन स्वीकृति के चलते क्षेत्र में शराब का अवैध व्यापार फल फूल रहा है। कई बार अधिकारी दिखावे के लिए कुछ कार्रवाई कर देते है, लेकिन अवैध धंधों में लिप्त लोगों के खिलाफ अधिकारी सख्त कार्रवाई करने से हमेशा बचते रहे है। स्थानीय पुलिस नगर का बाजार तो रात 10 बजे के बाद बंद कराने निकल पडते है, लेकिन सूरजपुर जनपद पंचायत के अंतर्गत ग्राम पंचायत दतिमा चौक पर चल रहे होटल शराब खाना पर देर रात तक शराब और के साथ-साथ मुर्गा मछली की भी उत्तम व्यवस्था पत्रकार के ढाबे मे परोसने का धंधा चलता रहता है।

जिस पर अधिकारी नरमी बरत रहे है। इससे पुलिस और आबकारी विभाग की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिह्न लग रहे हैं। शराब इतनी आसानी से उपलब्ध हो रही है कि युवा वर्ग के साथ ही अन्य लोग भी शराब के आदी होने लगे है। इससे समाज में कई परिवार बर्बाद हो रहे है।
*महिलाओं को होती है परेशानी*

ऐसे ही क्षेत्र के कई लोगों द्वारा घरों और दुकानों में अवैध शराब मिलने से शराब के आदि हो चुके लोग सुबह से शाम तक इन क्षेत्रों का चक्कर लगाते रहते है। ऐसे में इन क्षेत्रों में रहने वाली महिलाओं सहित आने जाने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है, लेकिन शराबियों के डर से कोई कुछ नहीं कहता है। इसलिए इन क्षेत्रों में अवैध धंधे चरम पर पहुंच गए है।
लेकिन बीट अधिकारियों की लापरवाही से अवैध धंधों पर कोई रोक नहीं लग पाई थी। वर्तमान में भी हालत जस की तस बनी हुई है। अभी भी कई क्षेत्रों में महिलाओं और युवतियों की सुरक्षा को लेकर कोई भी संस्था या अधिकारी चिंतित नहीं है। देशी और विदेशी शराब के आदि हो चुके कई युवा अपराधों में भी लिप्त हो रहे है। इससे नगर की सामाजिक व्यवस्था बिगड़ रही है।

*चारपहिया वाहनों से होता है अवैध परिवहन*

पुलिस और आबकारी विभाग की लापरवाही के चलते विदेशी और देशी शराब का अवैध परिवहन जोरों पर किया जा रहा है। शराब माफिया द्वारा जिम्मेदारों के साथ मिली भगत करके दतिमा चौक सहित आस पास के ग्रामीण क्षेत्रों में किराना दुकानों होटलों ढाबों पर शराब की सप्लाई की जाती है। शराब का परिवहन करने के दौरान अनेक चारपहिया वाहन नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों के कई चक्कर लगाते है, लेकिन पुलिस और आबकारी विभाग के लापरवाह अधिकारियों को ये वाहन दिखाई नहीं देती है।

अब आगे -ऐ- देखनी है की पत्रकारिता के धौश पर अवैध शराब की बिकरी धडल्ले से और फलता फुलता है या पुलिस व आपकारी के आला अधिकारियों ने कार्यवाही करते है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

slot depo 10k
slot qris
slot spadegaming
slot pg soft
habanero slot
cq9 slot
slot garansi kekalahan bebas ip